23 सित॰ 2021

नेटवर्क मार्केटिंग का फ्यूचर | Network Marketing Future in Hindi

By:   Last Updated: in: ,

 

Network marketing ka future | आइये जानते है नेटवर्क मार्केटिंग का फ्यूचर क्या है

आइये जानते है Network marketing ka future क्या है भारत में नेटवर्क मार्केटिंग भविष्य का आने वाला बिजनेस है ये बात 100% सत्य है क्योंकि अगर आप किसी अन्य सफल देश को देख लें जो भी देश आज की डेट में सफल है तो उन देशों में नेटवर्क मार्केटिंग को ज्यादा Priority दी जाती है इसका कारण है दुनिया का डिजिटल होना जो Network Marketing Business को बढ़ावा देता है।

लेकिन भारत में लोग इस बिजनेस को फसने-फ़साने का बिजनेस मानते है जिस कारण भारत की एक बड़ी आबादी इस बिजनेस से जुड़ने में कतराती है इस बिजनेस में अटूट कमाई है ये बात बिल्कुल सत्य है और इसी बात का लोगों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है क्योंकि ज्यादातर लोगों की यही धारणा होती है अगर किसी काम में ज्यादा पैसा है तो, या तो वह गलत बिजनेस है या धोखाधड़ी का बिजनेस है।

नेटवर्क मार्केटिंग को लेकर ऐसी बाते ज्यादातर वही लोग करते है जिन्हें इस फील्ड की प्रॉपर नॉलेज नहीं होती अगर आपको भी इस बिजनेस की सही जानकारी नहीं है तो आप इस आर्टिकल को पढ़ सकते है नेटवर्क मार्केटिंग क्या है?

नेटवर्क मार्केटिंग का फ्यूचर

आइये में आपको साधारण भाषा में समझाता हूँ इंडिया नेटवर्क मार्केटिंग का भविष्य क्या है जैसा कि आप और में या कहे हम सभी Whatsapp, Facebook, Instagram इत्यादि का यूज़ तो करते ही है जो की एकदम फ्री होते है इनके इस्तेमाल के आपको कोई पैसा भी नहीं देना होता है ओर बदले में ये आपको कई मुफ्त की सुविधाएं देते है क्या आपने कभी सोचा जब आप और में इन्हें कोई पैसा ही नहीं देते तो इनकी कमाई कहाँ से होती है जबकि ये दुनिया में इस्तेमाल किए जाने वाले टॉप Apps की लिस्ट में आते है अब सायद आपके मन भी ये प्रश्न आने लगा होगा की बाकई में इन ऐप की कमाई कहाँ से होती और कैसे होती होगी तो इससे पहले आपको जानना होगा ये इंडस्ट्री बनती कैसे और इनके चलने की प्रोसेस क्या है।

किसी भी इंडस्ट्री हो उसे चलने के लिए इन चार Phases से होकर गुजरना पड़ता है।

  1. Negetive Phase
  2. Positive Phase
  3. Growth Phase
  4. Compitition Phase

ये Phases क्या होते है और कैसे काम करते है आइये शॉर्ट में इनके बारे में जानते है।

Negetive Phase : ये एक ऐसा पड़ाव है जिससे हर इंडस्ट्री को होकर गुजरना पड़ता है जब भी बाजार में कोई नई कंपनी या प्रोडक्ट आता है तो लोगों को उसे समझने और उनकी सर्विसेस को समझने में प्रॉब्लम आती है जिससे लोग उसे अनदेखा कर देते है उदारण के लिए आईटी, इंसोरेंस या बैंकिंग सेक्टर के साथ शुरू में ऐसा ही हुआ था जब इनकी शुरुआत हुई तो न कोई बैंक में पैसे रखता था न ही इंसोरेंस कराता था इसका कारण था लोगो का इन पर भरोसा और जानकारी का न होना लेकिन आज डेट में इनकी कितनी वेल्यू है ये किसी को बताने की जरूरत नहीं है।

Positive Phase : ये वो समय होता है जब लोग इंडस्ट्री से जुड़ने लगते है और लोगों का ट्रस्ट बढ़ने लगता है एक समय पर लोग जिस इंडस्ट्री में विश्वास नहीं करते थे और अनदेखा कर देते थे अब उसकी सर्विस को जानने के बाद उससे जुड़ने लगे उदारण के लिए अब बैंक सभी के जरूरत का काम बन गया है इसी के साथ इंसोरेंस की हेमियत तब पता चली जब किसी दुर्घटना में मर जाने पर इंसोरेंस का पैसा मिलने लगा।

Growth Phase : अब लोगों का इंडस्ट्री पर पूरा भरोसा हो चुका है जिससे उसकी ग्रोथ तेजी से होने लगी अब इंडस्ट्री के बारे में किसी को ज्यादा बताने समझाने की जरूरत नहीं पड़ती ये ऐसा फेज होता है जिसमें हर कोई उस इंडस्ट्री से जुड़ना चाहता है और उसमें इन्वेस्टमेंट कर पैसा कमाना चाहता है।

Compitition Phase : जब कोई कंपनी सफल हो जाती है तो कंपनी के अंदर ही कॉम्पिटिशन होना शुरू हो जाता है चूंकि कंपनी पॉपुलर हो चुकी है जो लोग इससे जुड़े है वह अच्छा पैसा कमा रहे है इस होड़ में हर कोई इस कंपनी से जुड़ना चाहता है उदारण के लिए आज की डेट में नेटवर्क मार्केटिंग में भी लोगो के बीच होड़ मची है लेकिन अभी भी ये बिजनेस भारत मे शुरुआती दौर में है।

किसी कंपनी से जुड़ने का सही समय क्या है

अगर आप किसी इंडस्ट्री से जुड़ना चाहते है तो दो फेज सबसे बेस्ट होते है पहला की जब इंडस्ट्री नेगेटिव फेज में है क्योंकि इस समय इंडस्ट्री में किसी तरह की होड़ नहीं होती जिससे कंपनी से जुड़ना और सफल होना बेहद आसान होता है लेकिन इस फेज में कई लोगो के मन में प्रश्न रहता है कंपनी सफल तो होगी? ऐसा न हो इससे जुड़कर घाटे के सौदा कर बैठे तो इस कंडीशनर में दूसरा समय सबसे अच्छा है।

अब कंपनी नेगेटिव फेज से निकल चुकी है और पोसिटिव फेज में आने वाली है यानी कि कही न कही कुछ लोगो का इंडस्ट्री पर भरोसा बड़ा है ये समय भी ऐसा है जिसमें इंडस्ट्री में होड़ न के बराबर है ऐसे में इंडस्ट्री से जुड़ना और सफलता पाना बेहद आसान है।

भारत में Network Marketing का भविष्य

वर्तमान में Network Marketing Business भारत में Negetive Phase और Positive Phase के मध्य में है अभी कुछ लोगों को इस इंडस्ट्री पर भरोसा है और लगातार इससे जुड़ रहे लेकिन अभी भी ऐसे लोगो की संख्या ज्यादा है जो नेटवर्क मार्केटिंग को अच्छे से नहीं जानते या इसे एक तरह का प्रोड बिजनेस समझते है।

कारण जो भी हो लेकिन में आपसे यही कहूंगा आज की डेट में नेटवर्क मार्केटिंग या कहे डायरेक्ट सेलिंग बहुत ही सफल बिजनेस है और ये ऐसे फेज में है अगर कोई भी इससे जुड़ता है तो सफलता की संभावना ही संभावना है इसलिए बिल्कुल भी देरी न करें क्योंकि नेटवर्क मार्केटिंग पूरी दुनिया में भविष्य का बिजनेस है ओर आने वाले समय मे इस बिजनेस की डिमांड अधिक बढ़ने वाली है आप जल्दी से जल्दी इस इंडस्ट्री से ज्यादा पैसा कमा सकते है इस बिजनेस के बारे में ओर अधिक जानने के लिए नीचे लिंक दिए गए है।

नेटवर्क मार्केटिंग क्यों करना चाहिए?

नेटवर्क मार्केटिंग के नियम क्या है?

भारत की सबसे बड़ी और टॉप नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी कौन सी है?

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment