Soap Factory Business Idea: साबुन बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें, सरकारी करेगी मदद, होगी मोटी कमाई

 


आइये जानते है साबुन बनाने का बिजनेस, साबुन बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें, साबुन बनाने का बिजनेस कैसे करें, साबुन बनाने का उद्योग, साबुन का बिजनेस के बरें यानी आज हम आपको साबुन के उद्योग की जानकारी देंगे।

साबुन बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें

अगर आप करते-करते तक थक गए हैं और अपना खुद का बिजनेस शुरू करने की सोच रहे हैं तो यह आर्टिकल आपके बहुत काम आने वाला है। क्योंकि हम आपको अगर आप कोई बिजनेस करना चाहते हैं तो हम आपको साबुन बनाने का उद्योग की जानकारी देने वाले हैं जिससे आप बंपर कमाई कर सकेंगे। 

साबुन उद्योग (Soap Factory) की अच्छी बात यह है कि आप इस व्यवसाय छोटे से निवेश से शुरू कर महीने भर में ही अच्छी खासी कमाई कर सकतें है। तो आइए जानते है साबुन बनाने के बिजनेस के बारे में।

साबुन बनाने का बिजनेस कैसे करें

साबुन वनाने के बिजनेस के लिए सरकार द्वारा द्वारा भी मदद प्रदान की जाती है। यानी आपको मुद्रा योजना के तहत लोन मील जाएगा। अगर साबुन की डिमांड की बाद करें तो इसकी मांग हर जगह हर व्यक्ति को होती है। क्योंकि साबुन का इस्तेमाल नहाने से लेकर कपड़े धोने और बर्तन माजने आदि के लिए किया जाता है। ऐसे में साबुन बनाने का बिजनेस शुरू कर बढ़िया लाभ कमा सकतें है। 

साबुन बनाने की फैक्ट्री में खर्च

साबुन बनाने की युनिट आपके बिजनेस पर निर्भर करती है अगर आप छोटे स्तर पर शुरू करते है तो अनुमानित 5 लाख तक खर्चा आएगा। जबकि बड़े स्तर पर करने के लिए 15 लाख तक का खर्चा आएगा। 

साबुन बनाने वाली मशीन की कीमत

साबुन बनाने के बिजनेस के लिए मशीनों सहित कुल 8 उपकरणों की आवश्यकता होगी। मशीनों और उनकी स्थापना की कुल लागत एक लाख रुपये का आसपास आ सकती है।

साबुन के बिजनेस लिए कर्ज लोन स्कीम

जैसा कि हम सभी जानते है साबुन फैक्ट्री शुरू करने में आपको अच्छा खासा पैसा इन्वेस्ट करने पढ़ सकता है। तो आपको इस बिजनेस के लिए 80 फीसदी लोन मिल सकता है। क्योंकि केंद्र सरकार की मुद्रा योजना के तहत लोन लेना बेहद आसान है।

साबुन बिजनेस से सालाना कमाई होगी 6 लाख तक

 इस बिजनेस में सब खर्च और अन्य दायित्वों का भुगतान करने के बाद आप सालाना 6 लाख रुपये तक का लाभ कमा सकतें है। साबुन बिजनेस यूनिट स्थापित करने के लिए करीब 750 वर्ग फुट क्षेत्रफल की आवश्यकता होगी। जिसमें से करीब 500 स्क्वेयर फीट क्षेत्र कवर रहेगा जबकि बचा हुआ क्षेत्र खुला रहेगा। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ